सावधान:शरीर के इन 7 हिस्सों को बार बार छूने से हो सकती है ये गंभीर बीमारी।

870

कहा जाता है शरीर एक मदिर है जिसे  साफ़ सुथरा रखना हमारी जिम्मेदारी है इतना ही नहीं हमे इस बात का भी ख्याल रखना चाहिए की शरीर की क्या क्या आवश्यकताए है उसे कब किस चीज की जरूरत है आज हम आपको शरीर के कुछ ऐसे हिस्सों के बारे में बताने जा रहे है जो की इतने नाजुक है की बार बार छूने से ये इन्फेक्टेड तो होते ही है साथ ही इनपर कोई गलत असर भी पड़ सकता है शरीर को हमेशा से ही भगवान् माना गया है कहते है शरीर के अंदर  भगवान् वास करते है,  और जाहिर है की जहा भगवान् वास करते है उसको स्वक्ष रखना आवश्यक तो है ही  लेकिन कई बार शरीर के कुछ हिस्सों को बार बार छूने से  बीमारियों का भी सामना करना पड़ता है।  क्योकि  एक छोटी सी ग़लती उन्हें मुसीबत में डाल देती है। इसलिए जानकारों का मानना है कि हर व्यक्ति को स्वास्थ्य को लेकर बहुत जागरूक होना चाहिए….

बार बार इन हिस्सों को नहीं छूना चाहिए

कई बार व्यक्ति जानकारी के अभाव में अपने शरीर के साथ कुछ ऐसा कर देता है, जो उसे नहि करना चाहिए। बाद में नतीजा यह होता है कि वह तरह-तरह की शारीरिक समस्याओं से घिर जाता है। डॉक्टरों की मानें तो हमारे शरीर के कुछ ऐसे भी हिस्से हैं, जिन्हें हमें अपने हाथों से शरीर के इन हिस्सों को ना छुएँ, आदत को बदल देना चाहिए।

फेस

उम्र के एक समय में आने के बाद कई लड़को और लड़कियों के फेस पर मुहासे होने लगते है कभी कभी ये मुहासे पूरे फेस पर हो जाते है पूरे फेस को गंदा कर देते है मगर ऐसे में आपको ध्यान रखना चाहिए की आपको अपने फेस को ज्यादा नहीं छूना चाहिए क्युकी अगर आप बार बार चहेरे को चूहेंगे और दानो को छेड़ेंगे तो उनसे निकलने वाला मवाद आप के पूरे फेस पर फैलेगा ऐसे में आपको पूरे फेस पर ये समस्या बढ़ सकती है|

Read more:अगर आपको भी दिखें टांसिल के ये लक्षण, तो आज ही अपनाएं ये आसान घरेलू नुस्खे।

बट

आपको बता दे की अगर आप अपने बट को बार बार छूते  है तो ये आदत भी बदल दीजिये क्युकी  दिनभर आपके हाथो में ना जाने कितने बैक्टीरिया चिपक जाते है जिस से आपके बट के वो हिस्से ख़राब हो जाते है इसलिए ये आदत बदल दीजिये|

नाखूनों के अंदर का हिस्सा

आप को बता दे की अगर आप अपने एक हाथ से दूसरे हाथ के नाखून के अंदर के हिस्से को बार बार छूते  है  तो आपके नाखून इन्फेक्टेड हो सकते है जो की सड़ भी सकते है|

आँख

आँख एंटी अधिक सेंसटिव होती है  बताने की ज़रूरत नहीं है कि यह शरीर का कितना महत्वपूर्ण हिस्सा होता है और यह बहुत ज़्यादा सेंसेटिव भी होता है। ज़्यादातर आँखों में इन्फ़ेक्शन उसे बार-बार हाथों से छूने की वजह से होता है। इसलिए अगर कभी आपकी आँखों में खुजली की समस्या होती है तो उसे हाथों से खुजलाने की जगह आईड्रॉप डाल दें।

Read more:भारत में तेज़ी से बढ़ रहा है ये रोग, कहीं आपको भी ये बीमारी तो नहीं? इस तरह से करें बचाव।

कान का अंदरूनी हिस्सा

कान और आँख दो शरीर के ऐसे पार्ट है जो बेहद नाजुक होते है, कान का अंदरूनी हिस्सा एक परदे से बना होता है जो की आपको नुक्सान पंहुचा सकता है इसलिए कान के अंदर के हिस्से को कभी भी माचिस की तीली से या हाथ की आखिरी ऊँगली से नहीं छूना चाहिए|

नाक के अंदर का हिस्सा

नाक के अंदर का हिस्सा एक सोखते की तरह होता है जहा फिलटर होने का काम होता है ये इतनी नाजुक होती है की एक धुल का कण आपको दिनभर छींक  दिलाने के लिए काफी होती है, नाक आपकी सूंघने की छमता को बढ़ाती है साथ ही आपको हवा भी स्वक्ष करके देती है|

मुँह

ज़्यादातर लोगों की आदत होती है कि वह अपने मुँह को साफ़ करने के लिए अपने हाथों का इस्तेमाल करते हैं, जबकि हाथ साफ़ होने के बाद भी उसे अपने मुँह में नहीं डालना चाहिए|