ब्वॉयफ्रेंड के साथ लिव इन रिलेशन में रहने का पिता को पता चलते ही उठाया ये खौफनाक कदम..

299

आज के जमाने का युवा वर्ग पहले के लोगों की परंपराओं और संस्कृति को लांघते हुए काफीआगे निकल गया है।बड़ों के प्रति संस्कार भारतीयों कि मूल प्रवृत्ति होती रही है मगर आज के बच्चे इन रीति रिवाजों को नहीं मानते और खुद की मर्ज़ी से अपनी ज़िंदगी पसंद करते हैं।  तभी तो बड़े बड़े शहरों में बच्‍चें पढ़ाई करने तो जाते है लेकिन वहां अपनी खुशियों के लिएवोलिव इन रिलेशन में भी रहने लगते हैं। जी हां ये आजकल युवाओं के बीच फैशन बन चुका है। इस कल्‍चर को माता पिता तो कतई पसंद नहीं करते हैं लेकिन वहीं युवाओं को ये काफी पसंद आता है। इसमें लड़का लड़की बिना शादी किए साथ रहने लगते हैं। कुछ ऐसा ही मामला सामने आया है।

लुधियाना का है मामला!

दरअसल पंजाब के लुधियाना से एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आ रही है। जानकारी के लिए बता दें कि एक पिता को लिव इन में रह रही अपनी बेटी और उसके ब्वॉयफ्रेंड के बारे में पता चल गया और जैसे ही उसे ये बात पता चली उसने उन दोनों को मौत के घाट उतार दिया। जी हां इतना ही नहीं लिव इन में रह रही बेटी की हत्या के बाद आरोपी पिता ने लाशों को ठेले में लादकर चौराहे परघुमाते हुए उसपर दर्दनाक वार करता रहा।

चार साल का लिव इन रिलेशनशिप का हुआ खात्मा!

जैसे ही इस घटना की खबर लोगों को मिली इस घटना से उस इलाके मेंचारो तरफ सनसनी फैल गई है और पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार करके जांच शुरू कर दी है। कूमकलां इलाके में रहने वाले गुरमेल सिंह की 35 साल की बेटी बलजीत कौर और 37 साल के कुलदीप सिंह के बीच चार साल से प्रेम संबंध था।

पुलिस की रिपोर्ट!

बलजीत कौर शादीशुदा और पिछले एक साल से अपने पति को छोड़कर प्रेमी कुलदीप के साथ लिव इन में रह रही थी। जिससे युवती के पिता इस बात को लेकर काफी परेशान रहा करते थें। लेकिन इस मामले की छानबीन में पुलिस ने बताया कि आखिर कैसे उस पिता ने अपनी ही बेटी का खून किया। दरअसल बताया जा रहा है कि गुरमोल पिछली रात अपनी बेटी के घर में आया। वहीं खाना खाया और रुक गया। उसने तेजधार हथियारों से हमला कर बलजीत और उसके प्रेमी कुलदीप की हत्या कर दी।

पिता के गुस्सा का प्रकोप!

उसका गुस्सा यहीं शांत नहीं हुआ। वह दोनों के शवों को ठेले में डालकर चौराहे पर ले गया और गालियां देते हुए उनके हथौड़ी से वार करता रहा। इस दर्दनाक घटना को अंजाम देने के बाद पिता को सूकून मिला हैरानी तो इस बात की होती है कि गुस्‍से में इंसान क्‍याक्‍या नहीं कर जाता है। उसे खुद पता नहीं चल पाता है। यही कारण है कि लोग गुस्‍से में शांत रहने की सलाह देते हैं लेकिन ये गुस्‍साव्‍यक्ति से  कुछ भी करवा सकता है।