पति को था पत्नी पर शक, शादी के दो महीने बाद पकड़ा देवर के साथ आपत्तिजनक हालत में तो हुआ ये अंजाम|

2461

घर लक्ष्मी महिलाएं होती हैं और और तीन घर के माहौल को बनाती हैं। एक घर औरत के बिना सूना लगता है। मां, बहन,बेटी, बहू के रूप में स्त्री घर का शोभा बढ़ाने का काम करती है। भारत में प्रेम प्रसंग सदियों से चला आ रहा है और यहां के प्यार करने वाले जोड़ें दुनिया के लिए प्यार के नाम का मिसाल होते हैं। इन दिनों नई पीढ़ी के युवा इस डिजिटल जमाने में प्यार भी डिजिटल करने लगे हैं। फिल्मों के शौकीन उस चकाचौंध दुनिया से प्यार के किस्से देखकर आशिक आशिक मिजाजी बन जाते हैं। अगर वह असली प्यार नहीं हो पाता। इन सबके बीच गाजियाबाद के एक परिवार की प्रेम कथा सुर्खियां बटोर रही है। इस मामले में भाभी देवर का प्यार से पूरे परिवार वाले लोग खफा थे जिसकी परेशानी से दोनों अलग होकर रहने लगे और बाद में सुसाइड कर लिया। आखिर ऐसा क्या हुआ जिसने इन दोनों प्रेमियों को आत्महत्या करने पर मजबूर कर दिया।

क्या है पूरा मामला।

गाजियाबाद की एक जोड़े की कहानी जिसकी शादी करीबन 8 साल पुरानी हो चुकी है। मगर पति को क्या मालूम की उसकी पत्नी किसी और के साथ रंगरेलियां मना रही होगी। भोवापुर गांव की सीमा का विवाह कन्नौज के विशाल से हुआ था। मगर सीमा अपने ही देवर से प्रेम और एवं संबंध स्थापित करती थी जिसका पता पति को लगने के बाद विशाल गुस्से से लाल हो गया। कई दिनों तक विशाल अपने भाई और पत्नी की इस गंदी करतूत से अनजान था जिसका पता उसे उस वक्त लगा जब उसने अपनी आंखों से उन दोनों को आपत्तिजनक हालत मैं बंद कमरे में देखा।

सीमा हे दो बच्चों की मां।

सीमा की शादी विशाल से हुई थी और दोनों के दो बच्चे भी हैं। विशाल और सीमा की खुशहाल जिंदगी में किसे पता था कि सीमा इतनी गंदी नियत की महिला होगी। सीमा विशाल के छोटे भाई से ही अश्लील हरकतें और यौन संबंध बनाती थी। इन सब का पता विशाल को लगने के बाद विशाल ने सीमा के साथ बहुत मार पिटाई की। जिससे आक्रोश में आकर सीमा ने विशाल के छोटे भाई यानी अपने देवर से ही शादी करने की ठान ली।

गुस्से में सीमा ने छोड़ा घर।

विशाल को सीमा और अपने छोटे भाई की गंदी करतूत का पता लगते ही उसने सीमा से काफी मारपीट की और और इसकी जांच के लिए पुलिस थाने में रिपोर्ट भी कर डाली। शिवानी तुम सब से गुस्सा में आकर अपने सास-ससुर से उनके छोटे बेटे से ही शादी कराने की मांग रखी है जिसका उन दोनों ने साफ तौर पर इंकार कर दिया। जिसके बाद सीमा और उसका देवर साथ में घर छोड़कर भाग गए और गांव कि एक किराए के मकान में रहने लगे।

दबाव में आकर की आत्महत्या।

जबकि सीमा और उसके दिवस के खिलाफ पूरे परिवार वाले खड़े हो गए थे जिसकी जांच में पुलिस भी लग चुकी थी। सीमा अपने प्रेमी देवर के साथ अकेले तो जरूर रंगरेलियां मना रही थी मगर उन दोनों पर कई तरफ से दबाव भी बन रहा था। सीमा का देवर राजमिस्त्री था जो अपनी दिन रात की मेहनत से सीमा और उसके बच्चे का पालन पोषण करता था। जो विशाल को हजम नहीं हो रहा था और थाने में अपने भाई पर अपनी बीवी और बच्चे को भगा ले जाने का मुकदमा दर्ज कर दिया। जिस की पड़ताल में पुलिस ने दोनों पक्षों को साथ में बैठा कर इस मामले को सुलझाने की कोशिश की। मगर सीमा के देवर का कहना था कि सीमा और दोनों बच्चे उसके हैं। जिसके गुस्से में विशाल ने अपनी पत्नी सीमा से मारपीट कर दोनों ने जहर खा लिया जिसका नतीजा दोनों जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ रहे हैं।